मेरी चचेरी भाभी का 3 साल का बेटा राम है जो आज भी अपनी बात को स्पष्ट रूप से कह नहीं पाता है। राम अपनी बात को कहने की जब भी कोशिश करता है हकलाने लगता है। जिससे अन्य बच्चों व लोगों के बीच वह हँसी का पात्र बन जाता है। तभी मेरी दादी ने भाभी को यह बताया कि बच्चे का तुतलाना कोई रोग नहीं अपितु मानसिक दोष है। शुरुआत में अभिभावकों द्वारा ध्यान न दिए जाने के कारण यह समस्या बढ़ जाती है। जबकि हकलाहट जबड़ों की पेशियों के कड़ेपन और होठों की गतिमंदता के कारण होता है।

बच्चे का तुतलाना और हकलाना
Child lisp & stutter in Hindi

इन दोनों विकारों के कारण बच्चा स्पष्ट स्वर में बात नहीं कर पाता। अगर बचपन में ही इन दोषों पर ध्यान न दिया जाए तो यह दोष जीवन भर के लिए हो जाता है। इसीलिए इनके शुरुआती लक्षण नज़र आने पर इन घरेलू उपाय को करने से बच्चे का तुतलाना और हकलाना दूर हो जाती है और धीरे धीरे बच्चा स्पष्ट शब्दों के साथ बोलने लगता है। लेकिन एक बात का हमेशा ध्यान रखें अगर बच्चा 3 साल से 5 साल के बीच स्पष्ट न बोल पाए और अपनी बात को कहते समय हकलाए या तुतलाए तो डॉक्टरी सलाह अवश्य लें।

बच्चे का तुतलाना और हकलाना दूर करने के उपाय

1. आंवला

– बच्चे का तुतलाना और हकलाना दूर करने के लिए बच्चे को एक ताज़ा हरा आंवला कुछ दिनों तक खिलाएँ। इससे उसके तुतलाने व हकलाने की समस्या दूर हो जाती है और कुछ ही दिनों में आवाज़ स्पष्ट निकलने लगती है।

– नियमित रूप से सुबह सवेरे एक चम्मच सूखे आँवले के पाउडर में एक चम्मच देसी घी को मिलाकर सेवन कराने से भी हकलाहट धीरे धीरे दूर हो जाती है।

2. बादाम

– पूरी रात थोड़े से पानी में 16 बादाम को भिगो दें और सुबह उनके छिलके उतार कर बारीक़ पीस लें। अब इस पेस्ट को 40 ग्राम मक्खन के साथ मिलाकर कुछ महीनों तक नित्य बच्चे को खिलाएं। इससे बच्चे का तुतलाना और हकलाना बंद हो जाता है व जिह्वा के सभी दोष दूर हो जाते हैं।

– हकलाहट दूर करने के लिए प्रतिदिन सुबह खाली पेट 10 बादाम और 10 काली मिर्च के दाने को मिश्री के साथ पीस कर दस दिन तक सेवन करने से भी बेहतर परिणाम कुछ ही दिनों में नज़र आने लगेंगे।

3. छुहारा

सोने से पहले 1 गिलास दूध में छुहारे को उबालकर बच्चे को पिलाने से आवाज़ साफ़ होती है और शब्द भी स्पष्ट होने लगते है। ध्यान रहे इस उपचार के दो घंटे बाद तक बच्चे को पानी न पिलाएं।

4. अदरक

बच्चे में तुतलाने की समस्या होने पर 1 चम्मच अदरक के रस में 1 चम्मच शहद मिलाकर चटाएं। इससे तुतलाना काफ़ी हद तक ठीक हो जाता है।

5. काली मिर्च

बच्चे की हकलाहट की समस्या को दूर करने के लिए बच्चे को 3 काली मिर्च के दाने मुँह में रखकर धीरे धीरे चबाने दीजिए। इस उपचार से आवाज़ स्पष्ट होती है और हकलाहट भी दूर हो जाती है।

6. सौंफ

नियमित सोने से पहले 1 गिलास पानी में 5 ग्राम सौंफ़ को थोड़ा कूटकर उबालें। जब यह पानी उबलकर आधा रह जाए तब उसमें 50 ग्राम मिसरी का चूरा और 250 ग्राम गाय का दूध मिलाए। इसे नियमित पीने से कुछ ही दिनों में हकलाना ठीक हो जाता है।

7. गाय का शुद्ध देशी घी

बच्चे की हकलाहट या तुतलाहट की समस्या को दूर करने का यह सबसे सरल और बेस्ट उपाय है। इसके लिए नियमित सुबह थोड़ा सा देशी घी बच्चे को चटाए और हकलाहट को दूर भगाएँ।