सर्दियों में बालों में ड्राइनेस आ जाती है, जिससे रूसी होना, बालों का गिरना और बाल दो मुंहे होना जैसी दिक्कतें पैदा हो जाती हैं। ख़ास तौर से रूसी का होना इस मौसम में तो एक आम समस्या है। कुछ एक्सपर्ट यह मानते हैं कि बालों की रूसी होने की मुख्य वजह सर्दियों में बालों का न धोना है। सर्दियों में अक्सर लोग गरम पानी का इस्तेमाल करते हैं, नतीजा यह होता है कि सर की त्वचा के तैलिये ग्रंथियों से ज़्यादा तेल निकलने लगता है। अगर इस तेल को क़ायदे से हैंडल नहीं किया गया तो रूसी हो जाती है। इसलिए बालों को हफ़्तें मे दो से तीन बार ज़रूर धोएं।

रूसी के लक्षण

सर की त्वचा में खुजली का होना, बालों की रूसी का होना, सर में लाल चित्तीदार निशान का होना – ये सब रूसी के लक्षण हैं।

रूसी का कारण

सर की और बालों की सफ़ाई का ध्यान न रखना, फ़ंगल इन्फ़ेक्शन, रूखी त्वचा, लम्बी और गंभीर बिमारी, हेयर केयर प्रोडक्ट का रिएक्शन, पोषण में कमी, तनाव आदि रूसी के कारण हैं।

रूसी से सम्बंधित मिथ

शैम्पू करने से त्वचा रूखी हो जाती है जिससे रूसी बढ़ जाती है। असल में रूखी त्वचा बालों की रूसी का कारण नहीं है बल्कि सर की सही सफ़ाई न होना और बैक्टीरिया या फ़ंगस का जमा होना मुख्य कारण हैं।

बालों की रूसी का घरेलू उपचार

बालों की रूसी

1. दही । Yogurt

फ्रेश दही को उंगलिओं की सहायता से सर की त्वचा पर लगायें। इसे न ही पूरे बालों पर लगाने की ज़रूरत है, न सर की चमड़ी पर। इसे एक घंटे के लिए बालों में लगा रहने दें, अगर बालों में लगाने के बाद दही सूख जाता है तो थोड़ा और लगा लें। फिर किसी अच्छे शैम्पू से धो लें।

# टिप

हमारी त्वचा विभिन्न तरह के बैक्टीरिया का घर है। जब अच्छे और ख़राब बैक्टीरिया की संख्या का संतुलन बिगड़ जाता हैं तो त्वचा सम्बन्धी बीमारी होने लगती है। एक शोध में यह सिद्ध हुआ कि दही में प्रोबिओटिक बैक्टीरिया की अच्छी तादात होती है, इसको सर की चमड़ी पर लगाने से बैक्टीरिया की संख्या का संतुलन ठीक होता है और बालों की रूसी दूर होती है।

2. नींबू का रस । Lemon Juice

नींबू का रस निकालकर उसको सिर की त्वचा पर लगायें, फिर सर को किसी अच्छे शैम्पू से धो लें। बालों की रूसी ख़त्म हो जाएगी।

# टिप

सर की चमड़ी की अम्लीयता अगर बिगड़ जाये, तो डैंड्रफ़ हो सकता है। नींबू आपके सर की त्वचा की pH को ठीक करता है और बालों की रूसी को रोकता है। इसमें विटामिन C की भरपूर मात्रा की वजह से त्वचा को पोषण भी मिलता है। साथ ही एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा होने के कारण त्वचा का स्वास्थ सुधरता है।

3. एलो वेरा । Aloe Vera

एलो वेरा का पौधा मिले तो उसका गूदा या जेल को बालों की जड़ों और सर की त्वचा पर लगायें और आधा घंटा लगा रहने दें। फिर बालों को शैम्पू से धो लें।

# टिप

एलो वेरा स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभकारी है। एलोवेरा एक औषधि के समान हैं जिसमें बैक्टीरिया और फ़ंगस से लड़ने की क्षमता है। इसमें मौजूद
एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन से त्वचा को पोषण और सुरक्षा दोनों मिलती है।

4. नीम । Neem

नीम की पत्तियों का पेस्ट बनाकर इसको बालों की जड़ों और सर की चमड़ी पर धीरे धीरे लगायें, कुछ देर लगा रहने के बाद इसे शैम्पू से धो लें।

# टिप

नीम औषधियों गुणों की खान है, नीम में एंटीबैक्टीरियल तत्त्व होते हैं। इसमें बैक्टीरिया और फ़ंगस दोनों से लड़ने की क्षमता विद्यमान है और नीम के पानी का इस्तेमाल कर न केवल आप अपने बालों को बल्कि अपनी त्वचा को भी निरोगी रख सकते हैं।

5. अदरक । Ginger

अदरक को घिस कर उसका रस निकालें और उसे तेल में मिलाकर इस तेल को रोज़ प्रयोग करने से बालों की रूसी ख़त्म हो जाती है।

# टिप

मेरीलैंड विश्वविद्यालय ने अदरक पर कई शोध किए और यह पाया कि इसमें बहुत सी ख़ूबियाँ है और यह भी पाया गया कि अदरक के इस्तेमाल से त्वचा को आराम मिलता है। बालों का झड़ना कम होता है और बालों की रूसी भी दूर हो जाती है।

6. जैतून तेल । Olive oil

इसका इस्तेमाल करने से पहले बालों को गुनगुने पानी से धो ले और फिर जैतून के तेल को गुनगुना कर सर की त्वचा पर अच्छे से लगायें और दूसरे दिन सुबह शैम्पू कर लें।

# टिप

जैतून तेल के नियमित इस्तेमाल से त्वचा का रुखापन ख़त्म हो जाता है इसलिए इसका नियमित इस्तेमाल करें।

7. एप्पल सीडर विनेगर । Apple Cider Vinegar

उंगलियों की सहायता से सर की त्वचा पर एप्पल साइडर विनेगर लगाकर इसकी धीरे धीरे मालिश करें। अगर इस्तेमाल करने पर विनेगर ज़्यादा तेज़ लगे तो थोड़ा पानी मिला कर प्रयोग कर सकते हैं। फिर अगले दिन शैम्पू करके बालों को पानी से धो लें। ध्यान रहे कि यह विनेगर आँखों में न जाने पाएं।

# टिप

सेब का सिरका सिर प्रयोग करने से सिर की त्वचा का pH (अम्लीयता) बदल जाता है, जो कि बैक्टीरिया और फ़ंगस को पनपने नहीं देता है। बदले हुए pH की वजह से बालों की की भी नहीं हो पाती है।

8. बेकिंग सोडा । Baking Soda

एक चम्मच बेकिंग सोडा लेकर उसे शैम्पू में मिला लें और बालों में शैम्पू लगाकर सर की त्वचा पर उंगलियों से मसाजकर फिर बालों को पानी से धो लें।

# टिप

बेकिंग सोडा दो तरह से काम करता है – एक तो त्वचा की अम्लीयता में बदलाव लाता है और दूसरा मृत चमड़ी को निकालने और साफ़ करने का भी काम करता है। बेकिंग सोडा के इस्तेमाल से फ़ंगल ग्रोथ को बढ़ाने से रोका जा सकता है।

9. टी ट्री ऑयल । Tea Tree Oil

टी ट्री आयल को उंगलिओं की मदद से बालों की जड़ों और सर की त्वचा पर लगायें।

# टिप

यह एक ऑस्ट्रेलियाई पौधा है, जिसके तेल में फ़ंगस रोधी क्षमता विद्यमान होती है। यह एक तरह का प्राकृतिक फ़ंगस रोधी है।

Keywords – Dandruff problem, Scalp care, Skin care, Get rid of dandruff, Balon Ki Roosi, Sir ki tvacha, Hair care tips