डेंगू बुखार Dengue Fever भारत में हर साल कइयों को अस्पताल पहुँचाता है तो कइयों इससे मौत हो जाती है। डेंगू बुखार होने से पहले सावधानी बरतना और अगर हो जाये तो डॉक्टरी सलाह लेना ही बचाव के रास्ते हैं। मादा एडीज इजिप्टी मच्छर Aedes Aegypti Mosquito मरीज़ को डेंगू से पीड़ित करता है। जब मच्छर किसी को काटता है तो डेंगू फैलाने वाला वायरस मच्छर की लार के साथ शरीर में प्रवेश कर जाता है। इसके शुरुआती लक्षण सामान्य बुखार से मिलते जुलते होते हैं। इस लेख में हम आपको इस जानलेवा रोग से बचने से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें बतायेंगे।

डेंगू मच्छरडेंगू कैसे फैलता है?

What causes Dengue?
1. डेंगू के सबसे ज़्यादा मामले बरसात के मौसम में देखने में आते हैं
2. डेंगू फैलाने वाले मच्छर दिन में काटते हैं
3. डेंगू मच्छर ठहरे हुए पानी में पनपते हैं, जैसे – कूलर के पानी में, रुंधे हुए नालों में और आस-पास की नालियों में…
4. डेंगू कम रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले व्यक्तियों को आसानी से हो जाता है

डेंगू की पहचान और लक्षण

Identification and Symptoms of Dengue
1. डेंगू के लक्षण 3 से 14 दिन बाद दिखते हैं
2. तेज़ ठंड लगकर बुख़ार आता है
3. सिर और आंखों में दर्द होता है
4. शरीर और जोड़ों में दर्द में होता है
5. भूख कम लगती है
6. जी मचलाना, उल्टी और दस्त आने लगते हैं
7. चमड़ी के नीचे लाल धब्बे आने शुरु हो जाते हैं
8. गंभीर स्थिति में आंख, नाक से खून आ जाता है

पढ़िए मच्छर भगाने के उपाय

डेंगू मच्छर का जीवन चक्रडेंगू से आसानी से बचा जा सकता है

How to Stay Safe from Dengue Fever?
1. घर के अंदर और आस पड़ोस में पानी जमा न होने दें
2. नीम की पत्तियों का धुँआ घर में फैलायें
3. पानी के सभी बर्तन को खुला न रखें
4. किचेन और वाशरूम को सूखा रखें
5. कूलर का पानी सुबह-शाम बदलते रहें
6. खिड़कियों और दरवाज़ों में जाली लगवायें
7. शरीर पर मच्छर को दूर रखने वाली क्रीम लगायें
8. शरीर पूरी तरह से ढकने वाले कपड़े पहनें
9. सोते समय मच्छर दानी का प्रयोग करें
10. घर के आस पास मच्छर मारने वाली दवा का छिड़काव करवायें

डेंगू होने पर शरीर में किस प्रकार प्रभावित होता है?

How Human Body becomes victim of Dengue?
1. मरीज को सिर दर्द रहता है
2. माँसपेशियों में तेज़ दर्द होने लगता है
3. ब्लड प्रेशर / रक्त चाप घटता-बढ़ता है, जिससे शिथिलता और कमज़ोरी रहती है
4. फेफड़ों में पानी भर जाता है
5. दस्त, उल्टी और थकान होने लगती हैं
6. शरीर में लाल निशान, धब्बे, चकत्ते और खुजली होने लगती है
7. स्थित गम्भीर हो जाये तो मुँह और नाक से ख़ून आने लगता है
8. मूत्र और मल के रास्ते भी ख़ून आने लगता है

पढ़िए मच्छर भगाने के उपाय

डेंगू से लड़ने के लिए एल्कलाइन फ़ूड

डेंगू फैलने की खबर मिलते ही अपनी दिनचर्या और खान-पान बदलें

Precautions, Habit and Food
डेंगू एक लाइलाज़ रोग है अभी तक इसकी कोई दवा या वैक्सीन नहीं बनी है। सिर्फ़ शरीर की इम्यूनिटी / रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना ही एक मात्र इलाज है। उपरोक्त लक्षण दिखते ही पास के अस्पताल जायें।

डेंगू होने पर शरीर में प्लेटलेट्स की संख्या तेज़ी से घटने लगती है। ऐसे में दवा के साथ-साथ खान-पान और सही दिनचर्या रखना बेहद ज़रूरी हो जाता है।

डेंगू से बचने या होने पर नीचे दी गयी चीज़ों का सेवन करना चाहिए –

1. सादा भोजन खायें जिसमें नमक स्वाद से अधिक न हो। मसालेदार चटपटी चीज़ों का सेवन बंद कर दें।
2. अनार, ज्वार और गेहूँ के घास का रस पियें।
3. ताज़े मौसमी फलों का सेवन करें।
4. नारियल पानी और साफ़ पानी का अधिक से अधिक मात्रा में पियें।
5. विटामिन C युक्त फलों को खाना स्वस्थप्रद रहता है। नींबू, संतरे, मौसम्बी, अंगूर, स्ट्राबरी और जामुन में पर्याप्त मात्रा में वाइटमिन C पाया जाता है।
6. पपीते के पत्तों का रस बनाकर दिन में दो से तीन बार पिएं, यह माना जाता है कि इससे प्लेटलेट्स की संख्या बढ़ती है।
7. पपीते की तरह गिलोय की बेल का सत्व भी शरीर में प्लेटलेट्स की संख्या नियमित रखने में सहायक होता है।

पढ़िए मच्छर भगाने के उपाय

आशा है यह लेख आपको पसंद आयेगा और आप इसे मित्रों के साथ शेअर करेंगे।