अच्छे स्वास्थ्य से सुख तक जाने के लिए आपको यह जानना ज़रूरी है कि क्यों आपको अपने काम करने का समय क्यों निर्धारित करना चाहिए। क्या देर रात तक काम करना आपके लिए नुकसानदेह है? यदि आप रोज़ ही देर रात तक काम करने के आदी नहीं है तो यह आपके स्वास्थ्य को नुकसान नहीं पहुँचाता है। आप भी मानते हैं कि आपको रोज़ देर रात तक काम करने के लिए ओवर टाइम नहीं है लेकिन फिर भी आप अपनी मेज से नहीं उठते हैं।

इसलिए अपने स्वास्थ्य और सुख के लिए ज़रूरी है कि आप अपने काम का समय निर्धारित करें और तय घंटे ही काम करें। यहाँ हम उन 5 कारणों पर चर्चा करेंगे कि निर्धारित समय के अंतर्गत काम करने से आपका स्वास्थ्य अच्छा रहता है और आपके अपने को अधिक आनंदित महसूस करते हैं।

देर रात तक काम करने के ख़तरे

देर रात तक काम न करें और स्वस्थ रहें

१. दिल को स्वस्थ रखने के लिए

लांसिट मेडिकल जरनल में छपे एक अध्ययन के अनुसार यदि आप हफ़्ते में 55 घंटे या उससे अधिक काम करते हैं तो आपको दिल सम्बंधित बीमारियों का ख़तरा 33% अधिक रहता है। अभी इस बारे में और अध्ययन किया जा रहा है और अध्ययनकर्ता मानते हैं कि ऐसा इसलिए होता है ज़्यादा देर तक काम करने के कारण आप तनाव, कम कसरत और कम नींद लेते हैं।

२. बेहतर मानसिक स्वास्थ्य के लिए

काम और ज़िंदगी के बीच संतुलन बनाकर चलना हर व्यक्ति के लिए अलग-अलग हो सकता है, लेकिन अध्ययन से पता चलता है कि रोज़-रोज़ देर तक काम करना और थक जाना आपके शरीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव डालता है। आपको बात-बात पर जल्दी ग़ुस्सा आ जाता है और आपमें इमोशनल असंतुलन पैदा हो जाता है। आपको डिप्रेशन भी हो सकता है।

३. कार्य क्षमता घट जायेगी

अगर आप देर रात तक काम करने की आदत डाल लें तो आप अपने पर्सनल कामों को दिन में करने अक्षम महसूस करेंगे और कार्य क्षमता घट जायेगी। जब हम थकान, तनाव और काम का अधिक बोझ महसूस करें तो ज़रूरी हो जाता है कि अपना डेली शेड्यूल बदलना ज़रूरी है। नहीं नकारात्मकता की भावना आपमें बढ़ने लगेगी और आप ख़ुशियों से दूर होते जायेंगे।

४. बीमारियों का ख़तरा

जब रोज़ आप हर समय ख़ुद को तनाव में और थका हुआ महसूस करते हैं तो आपका इम्यून सिस्टम और प्राकृतिक रोग प्रतिरोधक क्षमता घटने लगती है। यदि आप ख़ुद को नियमित सर्दी-जुकाम और बीमार महसूस करने लगें तो काम के घंटों, मनोरंजन और आराम के लिए सही टाइम टेबल बनाना ज़रूरी है।

५. ख़ुश रहने के लिए आराम करें

ज़िंदगी में ख़ुश रहने से ज़रूरी शायद ही कुछ और है, इसलिए काम के साथ-साथ उन चीज़ों को भी करें जिनसे आपको ख़ुशी मिलती हो – जैसे सुबह टहलना, योगासन करना, परिवार के साथ समय बिताना, पसंदीदा क़िताबें पढ़ना आदि कुछ भी। ऐसा करने से आपको ख़ुशी और मानसिक तनाव से मुक्ति मिलती है। डायरेक्ट लाइन द्वारा 2013 के एक सर्वे से पता चला कि व्यक्ति को शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रखने के आवश्यक है वह सोने / नींद के अतिरिक्त 7 घंटे आराम करना चाहिए। इसलिए यदि आप ऑफ़िस के काम में ज़्यादा मन और समय लगा रहे हैं तो आप अपनी ख़ुशियों का क़त्ल कर रहे हैं।