आज कल की कॉम्पटीशन भरी ज़िंदगी में तनाव इतना बढ़ गया है कि छोटी छोटी बातों को भी हम भूल जाते हैं, और अगर सही समय पर वो याद न आए तो परेशानियाँ बढ़ सकती हैं। हम अपने दिमाग़ का महज़ 5 प्रतिशत से कुछ अधिक भाग ही यूज़ करते हैं लेकिन अगर प्रयास किया जाए तो इससे कहीं अधिक प्रयोग कर सकते हैं। जिससे कॉम्पटीशन के इस युग में आप किसी से पीछे नहीं रहेंगे। भूलने की आदत बच्चों से लेकर बुज़ुर्गों तक किसी को भी हो सकती है। इस आलेख में हम चर्चा करेंगे कि छोटे बच्चों और बडों का दिमाग़ तेज़ करने के लिए क्या उपाय करें?

दिमाग़ कमज़ोर होने के कारण

याददाश्त अच्छी या कम होना हमारे ब्रेन की पॉवर पर निर्भर करता है। हम रोज़ के रूटीन में ऐसे बहुत से काम करते हैं, जो हमारे दिमाग़ को कमज़ोर कर देते हैं। इस आदतों को फ़ौरन छोड़ देने में ही भलाई है, वरना ये आपको बहुत नुक़सान पहुंचा सकती हैं।

– भरपूर नींद न लेना
– ब्रेकफ़ॉस्ट न करना
– ज़्यादा भोजन करना
– कम पानी पीना
– मल्टीटॉस्किंग; एक समय पर एक से अधिक काम में दिमाग़ लगाना
– स्मोकिंग करना
– तनाव में रहना

दिमाग़ तेज़ करने के उपाय

आज कल के लाइफ़स्टाइल में हमारी मेमोरी पॉवर इतनी वीक हो गई है कि हमको ये भी याद नहीं होता है कि हम कल किस किस से मिले थे, हमने क्या क्या खाया था, या कहाँ कहाँ घूमने गए थे और कई बार तो लोगों के नाम तक भूल जाते हैं। कुछ लोग मेमोरी लॉस का ट्रीटमेंट के लिए मल्टीविटामिंस कैप्सूल भी खाते हैं। आइए कुछ ऐसे घरेलू उपाय जानें जिनसे हम दिमाग़ तेज़ करके अपनी याददाश्त बढ़ा सकते हैं।

याददाश्त बढ़ाने के उपाय
Yaddasht badhane ke upay

1. बादाम

रात को सोने से पहले 5 बादाम पानी में भिगोकर रख दें और सुबह छिलका उतारकर पेस्ट बना लें। 2 चम्मच शहद और बादम के पेस्ट को 1 गिलास गुनगुने दूध में मिलाकर पिएँ। दूध पीने के 1 घंटे तक कुछ खाएँ पिएँ नहीं। आप बादाम के पेस्ट को मक्खन और मिसरी के साथ भी मिलाकर खा सकते हैं। रोज़ इस उपाय को करने से दिमाग़ तेज़ होता है।

2. अखरोट

हमारे दिमाग़ की बनावट देखने में अखरोट जैसे होती है। अगर आप चाहते हैं कि आपकी याददाश्त बहुत तेज़ हो तो 20 ग्राम अखरोट और 10 ग्राम किशमिश को नियमित से खाएँ। गर्मी के मौसम में यह मात्रा कम कर दें।

3. कालीमिर्च

5 कालीमिर्च के पाउडर के साथ 25 ग्राम मक्खन और मिसरी मिलाकर खाने से दिमाग़ की कमज़ोरी दूर होती है और काम करने में मन लगता है।

4. पालक

पालक में विटामिन ए, के, ई, सी, बी2, बी6, फ़ोलिक एसिड, ज़िंक, मैग्नीज़ और कैल्शियम होता है, जो हमारे दिमाग़ को एक्टिव रखते हैं। पालक में ओमेगा 3 फ़ैटी एसिड भी होता है, जो हमारे ब्रेन के लिए बहुत ज़रूरी न्यूट्रीशन है। याददाश्त बढ़ाने, दिमाग़ी विकास और एकाग्रता बढ़ाने वाले सब ज़रूरी पोषक तत्व पालक में होते हैं। इसलिए दिमाग़ी स्वास्थ्य के लिए आपको नियमित इसका सेवन करना चाहिए। पालक सचमुच की पालक (Guardian) से कम नहीं होती है। गुर्दे में पथरी या अन्य रोग होने पर आप पालक का अधिक सेवन मत करें।

5. डार्क चॉकलेट

इसे खाने से दिमाग़ी की कार्य शक्ति बढ़ती है और मेमोरी बूस्ट होती है। इसका सेवन ज़्यादा नहीं करें, क्योंकि इससे वज़न भी बढ़ता है।

6. घी की मालिश

दिमाग़ की कमज़ोरी दूर करने के लिए गाय के घी से सिर में मालिश करें। इससे दिमाग़ तेज़ होगा और कमज़ोरी भी भाग जाएगी।

7. तिल

याददाश्त अच्छी करने के लिए तिल भी खा सकते हैं। तिल के साथ गुड़ रोज़ खाने से ब्रेन पॉवर बढ़ती है।

8. आंवले का मुरब्बा

सुबह खाली पेट आंवले का मुरब्बा खाने से दिल और दिमाग़ दोनों को ताक़त मिलती है। और अगर आपको भूलने की बीमारी ज़्यादा हो तो 1 चम्मच आंवले के रस में 2 चम्मच शहद मिलाकर सेवन करें।

9. उड़द की दाल

रात को सोने से पहले उड़द की दाल पानी में भिगो दें और सुबह इसे पीसकर पेस्ट बना लें। अब इस पेस्ट को दूध और मिसरी में मिलाकर खायें, इसे बुद्धि तेज़ होती है।

10. पुदीने की चाय

अगर आपको एल्ज़ाइमर है और आप बहुत मुश्किल से चीज़ें याद रख पाते हैं, तो सुबह उठते ही पुदीने की चाय पिएँ। इससे लम्बे समय के लिए आप इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

बुद्धि बढ़ाने के आयुर्वेदिक उपाय

Improve brain power
Improve brain power

1. अलसी का तेल

बुद्धि और एकाग्रता बढ़ाने के लिए अलसी का तेल बहुत ही उपयोगी है। रोज़ाना अलसी के तेल का सेवन करने से ब्रेन से जुड़ी कोई बीमारी नहीं होती है। इसके प्रयोग से ब्रेन एक्टिव होता है। स्टूडेंट्स और दिमाग़ी काम करने वालों को इसका सेवन ज़रूर करना चाहिए।

2. ब्राह्मी

बुद्धि बढ़ाने के लिए ब्राह्मी एक आयुर्वेदिक औषधि है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट होता है, जो मस्तिष्क की थकान दूर करता है। रोज़ाना 1 चम्मच ब्राह्मी का सेवन अति लाभकारी है।

3. मुलेठी

स्टूडेंट और कॉम्पटीशन की तैयारी करने वालों को मुलेठी का सेवन हर दिन करना चाहिए। इससे पढ़ा हुआ याद रहता है और बुद्धि बढ़ती है।

4. लौकी का तेल

सिर में लौकी का तेल लगाने से मस्तिष्क को शक्ति और ठंडक मिलती है। अगर सर दर्द है, बाल सफेद हो रहे हैं, झड़ रहे हैं; ये समस्याएँ हैं तो भी लाभ मिलता है।

5. गिलोय

आंवला, गिलोय और जामसी को बराबर मात्रा में पीसकर चूर्ण बना लें। इस चूरन को सुबह 2 ग्राम पानी से साथ पीना चाहिए।

6. गेहूँ के ज्वारे का रस

याददाश्त मज़बूत करने के लिए व्हीटग्रास जूस पीने से बहुत फ़ायदा मिलता है। रोज़ाना इसके सेवन से स्मरण शक्ति बढ़ती है और भूलने की बीमारी का इलाज भी होता है।

7. गुलुकंद

स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए दिन में 2 बार गुलुकंद खाना चाहिए। स्टूडेंट्स को तो इसका लाभ लेना चाहिए, इससे पढ़ा हुआ लम्बे समय तक याद रहता है।

8. दालचीनी

रात को सोने से पहले 10 ग्राम दालचीनी पाउडर को शहद में मिलाकर चाट लें और उसके बाद कुछ खाएँ पिएँ नहीं। इससे याददाश्त बढ़ती है और भूलने के बीमारी से भी बचा जा सकता है।

9. जामुन

जामुन खाने से बीती बातें याद रखने की शक्ति बढ़ती है। इसमें याददाश्त बढ़ाने का भी गुण होता है।

बच्चों की याददाश्त बढ़ाने के उपाय

बच्चों की दिमाग़ी विकास के लिए पैरेंट को अपनी ज़िम्मेदारी पूरी तरह से निभानी चाहिए। आइए जानते हैं कि आप बच्चे की स्मरण शक्ति कैसे बढ़ा सकते हैं।

Bachcho ka tez dimag
Bachcho ka tez dimag

1. दही

दही में पाया जाने वाला अमीनो एसिड तनाव दूर करके ब्रेन को कूल रखता है। इसलिए आप अपने बच्चे के भोजन में दही को स्थान दें।

2. दूध

दूध में शहद डालकर पीने से स्मरण शक्ति बढ़ती है। बच्चों का माइंड शार्प करने और उसे एक्टिव रखने के लिए शहद वाला दूध पिलाना चाहिए।

3. ब्रेन गेम्स

आज कल बाज़ार ऐसे खिलौनों से भरा है, जो आपके बच्चे के मानसिक विकास में सहायक हैं। आप उम्र के अनुसार ब्रेन गेम्स लेकर दें और साथ में स्वयं भी खेलें। इससे उन्हें आपकी मदद भी मिलेगी।

4. ब्राह्मी पाउडर

ब्राह्मी पाउडर आपके बच्चे के दिमाग़ की अनेक तक़लीफ़ों से छुटकारा दिलाता है जिससे उन्हें क्लास टेस्ट और फ़ाइनल एग्ज़ाम में कोई परेशानी नहीं होती है। आधा चम्मच ब्राह्मी पाउडर और शहद को गरम पानी में मिलाकर पिलाएँ और चमत्कार देखें।

एक शोध के अनुसार गर्भवती महिलाएँ यदि मछली खाएँ तो उनके होने वाले बच्चे का दिमाग़ तेज़ होता है। इसका कारण है बच्चे का सही दिमाग़ी विकास, जिससे ऑटिज़्म जैसी परेशानियों से बचा जा सकता है।

बच्चों का दिमाग़ तेज़ करने के तरीक़े

– दोपहर में 1 घंटे सुलाएँ
– ब्रेन गेम्स, नम्बर गेम्स और पज़ल गेम्स खेलने को दें
– नए शब्दों के उच्चारण सिखाएँ
– बच्चों के साथ समय बिताएँ और उनके साथ खेलें
– रात को डिनर करते समय बच्चों की बातें सुनें और अपनी शेअर करें

स्मरण शक्ति बढ़ाने के उपाय

– खरबूजे के बीज तवे पर भूनकर खाएँ
– सुबह 1 गिलास पानी में 2 चम्मच शहद मिलाकर पिएँ
– कद्दू की खीर का सेवन करें
– गाजर का ताज़ा जूस पिएँ
– तिल और गुड़ के लड्डू खाएँ
– फ़ारफ़ोरस युक्त फल जैसे अंगूर, संतरा और अंजीर का सेवन करें
– अलसी के 3 छोटे चम्मच बीजों का पाउडर बनाकर पानी के साथ पिएँ
– आम के रस में 2 चम्मच शहद मिलाकर पिएँ
– मांसाहार करने वाले मछली का सेवन करें

याददाश्त तेज़ करने के लिए मेडीटेशन

मेडिटेशन करने से दिमाग़ शांत रहता है, और माइंट कंट्रोल में भी रहता है। योग और प्राणायाम करने से माइंड रिलैक्स फ़ील करता है।

हर इंसान चाहता है कि उसकी दिमाग़ तेज़ हो और उसे ज़रूरत की सभी बातें याद रहें। जिस व्यक्ति की मेमोरी तेज़ होती है उसे क़ामयाबी आसानी से मिल जाती है, चाहे वो स्टूडेंट हो, नौकर हो या कोई बिज़नेसमैन। अगर आप मेहनती हैं और आपकी याददाश्त भी अच्छी है तो आपकी सफलता के चांसेज बढ़ जाते हैं, और अगर आपको लगता है कि आपको मेमोरी लॉस की प्रॉब्लम है तो आप भी याददाश्त बढ़ाने के उपाय करें।