वर्तमान समय में व्यस्त दिनचर्या के कारण आज कई लोग रात में काम के कारण देर से सोते हैं और सुबह जल्दी उठते हैं जिस कारण से नींद पूरी नहीं हो पाती हैं। नींद न पूरी हो पाने के कारण उनका स्वाभाव भी चिड़चिड़ा सा हो जाता है तथा वे कई रोगों के शिकार हो जाते हैं, जैसे – मोटापा, सिर दर्द, मधुमेह, हाइपर टेंशन, उच्चरक्त चाप, कम उम्र आदि। इसलिए प्रतिदिन कम से कम 8 घंटे की नींद ज़रूरी होता है। आज हम आपको नींद न पूरी होने पर शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में बताएंगे।

8 घंटे की नींद की ज़रूरत

8 घंटे की नींद - Eight hours sleep

1. ओबिसिटी

अगर 8 घंटे की नींद पूरी न करने से कई गम्भीर रोग हो सकते हैं। कच्ची नींद लेने से फ़ैट मेटॉबलिज़्म बढ़ जाता है। इसलिए हर दिन कम से कम 8 घंटे की नींद ज़रूर पूरी करें।

2. कमज़ोर इम्यून सिस्टम

शरीर को इम्यूनिटी प्रदान करने वाली व्हाइट ब्लड सेल्स देर रात तक जागने से कमज़ोर पड़ जाते हैं, इसलिए 8 घंटे की नींद लेने की आदत डालिए।

3. डायबिटीज़

ज़्यादा देर तक जागने से हर्मोन असंतुलन हो जाता है और शुगर बढ़ने लगती है, जिससे मधुमेह हो सकता है।

4. स्ट्रोक

देर रात में सोने आदत पड़ जाना और सुबह जल्दी उठना, इससे दिल पर दबाव बढ़ जाता है, जिससे कार्डियेक अरस्ट का ख़तरे की सम्भावना बढ़ जाती है।

5. उच्च रक्त चाप

नींद न पूरी होने पर आप हाई बीपी के भी शिकार हो सकते हैं , इसलिए कम से कम 6 घंटे की नींद ज़रूर नींद लें।

Blood pressure measurement

6. सिर दर्द

रात को देर से सोना और सुबह जल्दी उठना, यह आपको ब्रेन हैमरेज और कमज़ोर याददाश्त का शिकार बना सकता है।

7. कम उम्र

जीवन को ख़ुशहाल बनाने के लिए रात में जल्दी सोना और सुबह जल्दी उठने की आदत डालनी चाहिए। अगर ऐसा हुआ तो आपकी उम्र कम हो सकती है, इसलिए भरपूर नींद ले और एक स्वस्थ जीवन व्यतीत करें।

Keywords – Late night sleep, sound sleep, healthy sleep, eight hours sleep, early to bed early to rise

loading...