भारत में केसर की खेती जम्मू कश्मीर में होती है। इसका प्रयोग औषधि, उपचार और खाद्य पदार्थों में किया जाता है। इसे अरबी में ज़ाफ़रान और अंग्रेजी में सैफ़रान भी कहते हैं। इसका वैज्ञानिक नाम क्रोकस सैतिवस Crocus Sativus है। केसर का इतिहास 300 सालों से भी अधिक पुराना है। हिन्दू धर्म ग्रंथों में इसे एक पवित्र तत्त्व बताया गया है। यूरोप और इस्लामिक शाहकाल में भी इसका प्रयोग हुआ है। केसर एक पौराणिक और बहुत की कीमती खाद्य पदार्थ है। आज हम आपको केसर के स्वास्थ्य लाभ बताने वाले हैं। आज भी यह अपने वज़न केअनुसार दुनिया में सबसे महंगा है। कुछ सौ साल पहले केसर सोने से भी अधिक मंहगा बिकता था।

केसर के स्वास्थ्य लाभ

Saffron Crocus Sativus - केसर के स्वास्थ्य लाभ

1. हाइपर टेंशन

फ़तेही द्वारा किये गए शोध मुताबिक केसर की पत्तियों के अर्क में उच्च रक्तचाप को कम करने की क्षमता होती है। यह रक्त के गुणों और स्नायु तंत्र में सकारात्मक बदलाव लाकर रक्तचाप को नियंत्रिय करता है।

2. मिर्गी का दौरा

केसर के पराग में पाए जाने वाले तत्त्व सैफ़र्नल पर किए गए शोध के आधार पर इसमें मिर्गी जैसे दौरों को कम करने की क्षमता विद्यमान होती है। इसके नियमित उपयोग से मिर्गी के दौरे से भी बचा जा सकता है।

3. खांसी रोधी

केसर के पराग में मौजूद सैफ़र्नल और क्रोसिन जैसे तत्वों में खांसी कम करने की भी क्षमता होती है।

4. कैंसर रोधी

मनुष्य की सामान्य और कैंसर वाली कोशिकाओं पर केसर के तत्त्वों का परीक्षण करके, शोध में यह पाया गया कि कुछ तत्त्व कैंसर बनाने वाली प्रक्रिया के विरुद्ध काम करता है। वहीं केरॉटेंवाएड नामक दूसरा तत्त्व कैंसर कोशिकाओं के विरुद्ध काम करता है और कैंसर को खत्म करने में मदद करता है। अत: यह बात सिद्ध हो गयी कि केसर में कैंसर से लड़ने की अचूक शक्ति है। इस प्रकार बड़ी बिमारियों में केसर के स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं।

Male Infertility

5. यौन क्षमता

केसर के दो तत्वों सफ़र्नल और क्रोसिन में कामोत्तेजना बढ़ाने वाले गुण होते हैं, जिसके नियमित उपयोग कर यौन क्षमता बढ़ा सकते हैं। दूध और केसर के इस प्रभाव का हमारे पूर्वजों को ज्ञान तभी वे नवविवाहितों को इसका सेवन करने के लिए कहते थे।

6. तनाव और चिंता

आज प्रत्येक व्यक्ति चिंता और तनाव से ग्रस्त है, जिस कारण वे न तो रिश्तों को अच्छे से निभा पाते हैं और न ही एक बेहतर जीवन जी पाते हैं। ऐसे में केसर का प्रयोग बड़ा लाभकारी साबित होता है। अतः तनाव मुक्त रहने के लिए केसर युक्त दूध का सेवन करें। अत: बढ़ते तनाव और ख़ुशहाल जीवन के लिए भी केसर के स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं।

7. डिप्रेशन

डिप्रेशन से ग्रस्त लोगों को दो समूहों में बाँटकर कुछ को केसर के तत्वों के अर्क वाली टैबलेट दी गयी और कुछ को नहीं दी गयीं। कुछ सप्ताह उपयोग के बाद केसर अर्क वाली टैबलेट खाने वाले लोग डिप्रेशन के लक्षणों से मुक्त पाए गए। इस प्रकार डिप्रेशन के मरीज़ों को केसर का सेवन करना चाहिए।

8. मस्तिष्क क्षमता

केसर के तत्त्व चीज़ें याद रखने और नया सीखने की क्षमता को बहुत अधिक प्रभावित करते हैं। बाल्य और युवावस्था में इसका नियमित प्रयोग करने से मस्तिष्क एक्टिव और तेज़ होता है। उम्रदराज़ लोगों में अक्सर भूलने की बीमारी होती है, जिसे ठीक करने में भी इसके सकारात्मक प्रभाव देखे गये हैं।

Brain Power

9. आँखों की रोशनी

केसर आँखों की रेटिना और करॉएड में रक्त संचार को बढ़ाते हैं। उम्र बढ़ने के साथ आँखों की रोशनी का कम होने होने लगती है और अनेक सम्बंधित समस्याएँ उत्पन्न होने लगती हैं। ऐसे में केसर का नियमित उपयोग से इन सभी समस्याओं से बचा जा सकता है। केसर के स्वास्थ्य लाभ यह भी है, कि पहले से कमज़ोर रेटिना को सही करता है।

10. स्वस्थ हृदय

हृदय सम्बंधित रोग के मरीज़ों को 100 मिली लीटर दूध में 50 मिली ग्राम केसर मिलाकर रोज़ देने पर एक प्रकार की रासायनिक क्रिया, जिसे लिपोप्रोटीन ऑक्सीडेशन कहते हैं, उसमें कमी आती है। ऐसा केसर के प्रतिऑक्सीकारक गुण होते हैं, जो हृदय के बिमारियों सम्बंधित रसायनों को कम कर देता है।

Keywords – Saffron,  Zaffron,  Crocus Sativus,  Kesar,  Saffron Health Benefits,  Zaffron Health Benefits,  Kesar Health Benefits, केसर के गुण, केसर के लाभ, केसर के फ़ायदे, केसर के फायदे