जब दिल तक खून पहुंचने में कोई दिक्कत होती है, तब दिल का दौरा पड़ने की आशंका रहती है। हार्ट अटैक ‌_ Heart Attack जैसी दिल की बीमारी का इलाज समय पर करवाना चाहिए नहीं तो यह जानलेवा साबित हो सकती है।

हार्ट अटैक का इलाज मँहगा होता है, जिस वजह से आम आदमी इसके खर्चे आसानी से नहीं उठा सकता है। इसलिए ऐसी परिस्थिति में इस दिल की बीमारी का जानलेवा होना लाज़मी है। आपको पता होना चाहिए कि दिल का दौरा पड़ने पर बचाव के लिए क्या उपाय होते हैं? हार्ट अटैक के लिए भी घरेलू और आयुर्वेदिक उपाय मौजूद हैं, जिनसे इसका इलाज संभव है।

हार्ट अटैक की जानकारी
Heart Attack Information Hindi

हार्ट अटैक के लक्षण

– सांस फूलना
– ज़्यादा पसीना बहना
– सीने में दर्द या जलन होना
– जी मिचलाना और उल्टी आना
– सिर चकराना और बेहोशी
– घबराहट महसूस होना
– पेट में दर्द होना

हार्ट अटैक के कारण

– हाई ब्लडप्रेशर
– हाई कोलेस्ट्रॉल
– मोटापा
– शरीर से काम न लेना
– डायबिटीज
– अनुवांशिक कारण

दिल के दौरे का एलोपैथिक इलाज

एलोपैथिक उपचार के लिए डॉक्टर एंजिओप्लास्टी करते हैं। जिसमें ऑपरेशन करके खराब ब्लड वेसल की मरम्मत की जाती है या बंद कोरोनरी आटरी को खोला जाता है। दिल सम्बंधित समस्याओं के लिए हार्ट बाइपास सर्जरी की जाती है। जिसका औसतन खर्चा 5 लाख के लगभग होता है।

हार्ट बाइपास सर्जरी में बंद ब्लड वेसल में स्टेंट डाल देते हैं, जो एक तरह की स्प्रिंग होती है। लेकिन इसके बाद भी हार्ट अटैक से बचने की कोई गारंटी नहीं रहती है। लेकिन हार्ट अटैक के लिए आयुर्वेदिक उपचार किया जाए तो लम्बे समय तक आराम मिलता है।

हार्ट अटैक का आयुर्वेदिक इलाज

योग, आयुर्वेद और घरेलू नुस्खे की सहायता से बिना एंजियोप्लास्टी के लगभग 80% हार्ट अटैक की संभावना को टाला जाता है। इन तरीकों से दिल की दूसरी बीमारियां भी कम हो जाती हैं। दिल का दौरा रोकने के लिए आयुर्वेद में प्रभावी उपायों का उल्लेख किया गया है।

हार्ट ब्लॉकेज खोलने के लिए चिकनाई से पैदा होने वाले एसिड को खत्म किया जाता है, जिससे दिल की बीमारियां जड़ से खत्म हो जाती हैं। दिल का बीमारियां एसिडिटी के कारण होती हैं। एसिडिटी जो पेट से जुड़ी समस्या है, जब यह अधिक बढ़ जाती है तो यह एसिड खून में मिल जाता है। जिससे ब्लड एसिडिटी हो जाती है।

जब यह एसिडिक ब्लड रक्त वाहिनियों में आगे नहीं बह पाता है, तब ब्लॉकेज की समस्या हो जाती है, जिससे हार्ट अटैक पड़ता है।

हार्ट अटैक का आयुर्वेदिक इलाज करने के लिए ब्लड एसिडिटी को क्षारीय वस्तुएं खाने की सलाह दी जाती है। क्षारीय खाद्य वस्तुएं खाने से खून की अम्लता घट जाती है और ब्लॉकेज खुल जाता है।

– लौकी एक क्षारीय सब्ज़ी है। लौकी सब्ज़ी, लौकी का रस या कच्ची लौकी खाने से रक्त की अम्लता कम होती है। कड़वी या कसैली लौकी का सेवन नहीं करना चाहिए।

– तुलसी की पत्ती में भी क्षारीय गुण होते हैं, जिसे लौकी के जूस में मिलाकर पिया जा सकता है।

– लौकी और तुलसी के साथ-साथ पुदीना भी क्षारीय गुणों से युक्त है। आप लौकी के जूस में तुलसी और पुदीना मिलाकर अधिक लाभ ले सकते हैं। स्वाद के लिए सेंधा नमक डालकर पीने से कोई हानि नहीं है।

Dil ki bimari ka ilaj

दिल की बीमारियों के लिए योगासन

दिल की अनेक बीमारियों का इलाज नियमित योग और प्राणायाम द्वारा भी संभव है। आगे बताए गए 5 प्राणायाम हार्ट प्रॉब्लम के लिए लाभकारी हैं।

– भस्त्रिका प्राणायाम
कपालभाती प्राणायाम
– अनुलोम-विलोम प्राणायाम
– भ्रमरी प्राणायाम
– उदगीथ प्राणायाम

हृदयाघात के लिए आयुर्वेदिक दवाएं

– दिव्य अर्जुन क्वाथ 4-4 चम्म्च खाने के बाद पिएं
– दिव्य हृदयामृत 2-2 गोली सुबह-शाम खाएं
– 5 ग्राम दिव्य संगेयासव पिश्ती, 5 ग्राम दिव्य अकीक पिश्ती, 4 ग्राम दिव्य मुक्ता पिस्ती और 2 ग्राम योगेंदर रस मिलाकर मिश्रण बना लें। 60 पुड़िया बनाकर रख लें और सुबह-शाम खाली पेट शहद के साथ 1-1 पुड़िया का सेवन करें। जब दिल की बीमारी घातक हो तो यह उपाय कारगर सिद्ध होता है।

एक्यूप्रेशर से हार्ट अटैक का इलाज

– हाथ सबसे छोटी उंगली के नीचे गहरी रेखा के ऊपर दबाने से सभी प्रकार के हृदय रोग जैसे छाती में संक्रमण, दिल का दर्द, हृदयाघात, धड़कन बढ़ जाना, हार्ट ब्लॉकेज और कार्डियोवस्कुलर डिसीज में फायदा मिलता है।

हार्ट अटैक से बचने के घरेलू उपाय

हृदयाघात और दिल की बिमारियां हर साल लाखों लोगों के लिए जानलेवा साबित होती हैं। रोज़मर्रा के जीवन में कुछ घरेलू उपाय करके दिल की बीमारियों से बचे रह सकते हैं और संभव इलाज भी कर सकते हैं।

– अर्जुन छाल दिल की सभी बिमारियों में लाभकारी है। अर्जुन छाल की चाय पीने से बहुत फायदा मिलता है।

– नियमित दलिया खाने से दिल की बिमारियों का खतरा कम हो जाता है।

– शहद दिल की सेहत का ख़याल रखने के लिए उत्तम औषधि है। रोज़ 1 चम्मच शहद ज़रूर खाएं।

– सूखा आंवाला और मिसरी को बराबर मात्रा में पीसकर हर रोज़ पानी से साथ 1 चम्मच सेवन करने से हार्ट अटैक का खतरा कम हो जाता है।

– खाना बनाने के लिए अलसी के तेल का प्रयोग करें। अलसी में ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है, जिससे दिल को ताक़त मिलती है।

– दिल को स्वस्थ रखने के लिए गुड़ में घी मिलाकर खाना चाहिए।

– अलसी के पत्ते और सूखे धनिया का काढ़ा बनाकर पीने से भी दिल की कमज़ोरी दूर होती है।

Keywords – Heart Attack Ayurvedic Treatment, Dil Ka Daura, Hridyaghat, Heart Attack Gharelu Upay, heart attack ka ayurvedic ilaj, heart attack kaise hota hai, heart attack ka desi ilaj, reason for heart attack in hindi, heart attack kaise aata hai, heart attack se bachne ke desi upay, heart ki bimari ka ilaj, heart attack ke karan