गर्मियाँ इन दिनों पूरे ज़ोरों पर हैं। घर से बाहर निकले तो शरीर झुलसने लगता है। चिलचिलाती गर्मी, बहता पसीना, ये रैशेज और घमौरियाँ गर्मी में बेहद परेशान करते हैं। ये ख़ास तौर पर बच्चों के शरीर पर तेज़ी से हमला बोलते हैं। गर्मियों में घमौरी के कारण लू लगने का ख़तरा भी पैदा हो सकता है। इसलिए इस गर्मी इनसे बचाव ज़रूर करें, ताकि आप और आपका परिवार इन घमौरियों से बच सकें।

घमौरियाँ क्या हैं? इनसे कैसे बच सकते हैं?

गर्दन पर घमौरियाँ

आज हम घमौरियों के बारे में और उसके लक्षण के बारे में जानेंगे…

घमौरियाँ

घमौरियों को अंग्रेजी में प्रिकली हीट रैश “Prickly Heat Rash” कहते हैं। गर्मियों के मौसम में घमौरियाँ का होना आम बात है। गर्मियों में निकलने वाले पसीने से त्वचा में नमी बनी रहती है। जिससे कीटाणु आसानी से पनपने लगते हैं। इसी समय अधिक काम करने से पसीने की ग्रंथियाँ भी बंद हो जाती हैं और पसीना त्वचा की अंदरूनी परत के अंदर जमा रह जाता है। यह रैशेज और घमौरियों का रूप ले लेते हैं।

घमौरियों के प्रकार व लक्षण

घमौरी को वैज्ञानिक भाषा में मिलीएरीया रूब्रा “Miliaria rubra” कहते हैं। यह एक प्रकार का चर्मरोग है। वैसे घमौरियाँ एक हफ़्ते में लगभग चली जाती हैं। लेकिन अगर ये न जाएं, तो डॉक्टरी परामर्श अवश्य लें।

घमौरियों के प्रकार

  1. मिलीएरीया क्रिस्टलाइन – Miliaria crystalline
  2. मिलीएरीया रूब्रा – Miliaria rubra
  3. मिलीएरीया प्रॉफ़डा – Miliaria profunda
  4. मिलीएरीया पस्टूला – Miliaria pustulosa

इन घमौरियों में मिलीएरीया प्रॉफ़ंडा में सबसे अधिक ख़तरा रहता है और इसे वाइल्डफ़ायर भी कहते हैं।

घमौरियों के लक्षण

गर्मियों व बरसात में घमौरी और रैशेज होने पर व्यक्ति के शरीर में छोटे छोटे लाल फुंसियाँ और दाने हो जाते हैं जिनमें अक्सर खुजली व जलन होने लगती है। गर्म शहरों में रहने वाले लोग इसके ज़्यादा शिकार होते हैं।

  • गर्मियों में लगातार शरीर में खुजली का होना
  • थकावट महसूस होना
  • शरीर से लगातार पसीने का निकलना
  • शरीर में जलन या कांटे सी चुभन का महसूस होना
  • कपड़ों से भी चुभन महसूस होना

उपरोक्त बातें घमौरियों के लक्षण हैं।

घमौरियों से बचाव

  • इसलिए ऐसी भयंकर गर्मी में मोटे और सिंथेटिक कपड़ों को पहनने के बजाय खुलें, हल्के और हवादार कपड़े पहनें। ऐसे कपड़े न पहनें, जिनमें रंग निकलता हो।
  • जितना हो सके अधिक से अधिक से अधिक पानी पिएं
  • ज़्यादा मसाले व गरिष्ठ खाद्य पदार्थों का सेवन न करें।
  • हवादार और ठंडी जगह में रहें।
  • घमौरियों वाले जगह पर बर्फ से सिकाई करें और कैलेमाइन लोशन लगाएं
  • अगर घमौरियों और रैशेज ज़्यादा परेशान करें तो डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।

Keywords – घमौरियाँ, घमौरियां, heat rash, prickly heat, Miliaria crystalline, Miliaria rubra, Miliaria profunda, Miliaria pustulosa