आज कल मोबाइल एक व्यक्ति की ज़रूरत बन गया है। पहले मोबाइल का प्रयोग एक दूसरे तक सन्देश पहुँचाने या बात करने के लिए करते थे। समय बदलता गया और लोगों की ज़रूरतें भी। आज मोबाइल का प्रयोग सन्देश तक सीमित नहीं रह गया बल्कि हर क्षेत्र की जानकारी प्राप्त करने का एक बहुत बड़ा माध्यम बन गया है। आज चाहे बच्चा हो या वृद्ध हर एक के हाथ में मोबाइल है। क्या आप जानते हैं कि मोबाइल का प्रतिदिन प्रयोग आपके शरीर को कितनी क्षति पहुँचा रहा है।

मोबाइल का प्रयोग

जानिए मोबाइल का प्रयोग आपको कितना नुकसान पहुँचा रहा है –

1. मोबाइल से निकलने वाले रेडिएशन के कारण सर दर्द, धुंधला दिखना, सर में झनझनाहट, लगातार थकान महसूस करना, चककर आना, डिप्रेशन, नींद न आना, काम में ध्यान न लगाना, सुनने में कमी, याददाश्त में कमी, कानों का बजना, अनियमित निद्रा जैसी समस्या होने लगती हैं।

2. दिन भर में 24 मिनट तक मोबाइल का प्रयोग करना ठीक है लेकिन आज के समय में लोग इसका प्रयोग सामान्यतः 3 से 4 घंटे से कम नहीं करते हैं।

3. अगर आज आपके हाथ में मोबाइल न हो तो हर पल आपका ध्यान सिर्फ़ आपके मोबाइल में रहता है। जब तक वो आपके हाथ में नहीं होता है तब तक आप लगातार चिंताओं से (Anxiety) घिरे रहते हैं। यानि लोग इसके अकारण फ़िजूल चिंताओं से घिरे रहते हैं।

4. मोबाइल को लोग अक्सर अपने तकिए के नीचे लगाकर सोते हैं जबकि मोबाइल हर मिनट टॉवर को सिग्नल भेजता है इसलिए सोते समय भी उससे एक हाथ की दूरी बना कर रखना बेहद ज़रूरी होता है।

सुरक्षा बरतनें के लिए क्या करें

मोबाइल को आँखों के सामने रखें

जब आप फ़ोन का प्रयोग कर रहे होते हैं तो आपका फ़ोन आपके हाथ में नीचे होता है, जिस कारण आपको बहुत सिर झुकना पड़ता है। ऐसे में कोशिश करें कि फ़ोन आपकी आँखों के सामने ऊपर की ओर हो।

लगातार मोबाइल का प्रयोग करने से बचें

यदि आँखों के बराबर में फ़ोन रखकर आप असहज महसूस कर रहे हैं, तो फ़ोन का प्रयोग थोड़े थोड़े समय के लिए करें। इस तरह से भी आप बहुत हद तक गर्दन व रीढ़ की हड्डी की परेशानी को दूर कर सकते हैं।

घर में मोबाइल का प्रयोग लेटकर करें

यदि आप घर में है तो लेटकर फ़ोन का प्रयोग करें, यह आपके लिए ज़्यादा प्रयोगी होगा। ज़मीन पर सीधा लेटकर आप अपने फ़ोन को ऊपर अपने आँखों के सामने रखें। अगर इस तरह से भी आप फ़ोन का लंबे समय तक इस्तेमाल करते हैं, तो आपको ज़्यादा परेशानी नहीं होगी। इससे आपके शरीर को काफी आराम भी मिलेगा।

उपरोक्त बातों को समझकर और उन्हें संज्ञान में लेकर आप मोबाइल का प्रयोग सावधानी करके शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रह सकेंगे।