नपुंसकता के शिकार कई पुरुष डॉक्टर के पास जाने से झिझकते हैं, जिससे इलाज में देरी हो जाती है। किसी दूसरी बीमारी की तरह नपुंसकता भी एक बीमारी ही है, जिसका इलाज संभव है। जैसे ही किसी पुरुष को इसके लक्षण दिखाई पड़े तो डॉक्टरी सलाह लेने में क़तई देरी न करें, हो सकता हो, ये किसी और बीमारी के लक्षण हों। उसका उपचार भी तो आपको कराना ही होगा। मर्दाना कमज़ोरी का पता चलते ही इसका फ़ौरन इलाज शुरु कर दें। आइए आलेख के ज़रिए नपुंसकता का इलाज करने के आयुर्वेदिक और घरेलू उपाय बताते हैं।

नपुंसकता
Impotency Napunsakta Symbol

नपुंसकता का आयुर्वेदिक उपचार

1. आंवला : मर्दाना कमज़ोरी के इलाज में आंवला का सएवन बहुत फ़ायदेमंद है। 2 चम्मच आंवले के रस में 1 चम्मच आंवला चूरन और 1 चम्मच शुद्ध शहद मिलाकर सुबह शाम 2 बार खाएँ। इस उपाय से यौन शक्ति बढ़ती है।

2. अश्वगंधा : अश्वगंधा का चूरन, असगंधा और बिदारीकंड को 100-100 ग्राम मात्रा में बारीक़ पीसकर चूरन तैयार करें। रोज़ सुबह शाम दूध के साथ आधा चम्मच यह चूरन लेने से वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या बढ़ती है और मर्दाना कमज़ोरी दूर होती है।

3. सोंठ : शरीर की कमज़ोरी भगाने और यौन शक्ति बढ़ाने के लिए 4 ग्राम सोंठ, 4 ग्राम सेमल का गोंद, 2 ग्राम अकरकारा, 2 ग्राम पिपली और 30 ग्राम काली तिल को मिलाकर चूरन बना लें। इस चूरन को रात में सोने से पहले नियमित रूप से खाएँ।

4. इमली : आधा किलो इमली के बीज को तोड़कर 3 तीन दिन पानी में भिगोकर रखें। फूले हुए बीजों से छिलके हटा दें और सफेद भाग को खरल में डालकर पीस लें। अब इसमें आधा किलो मिसरी मिलाकर कांच के मर्तबान में रख दें। इस मिश्रण को आधा आधा चम्मच दिन में दो बार दूध के साथ लें। इस उपाय को करने से संभोग करने की शक्ति बढ़ेगी और शीघ्र पतन की समस्या दूर होगी।

5. जायफल : 15 ग्राम जायफल, 5 ग्राम अकरकरा, 20 ग्रामा हिंगुल भस्म और 10 ग्राम केसर मिलाकर पीस लें। अब इस मिश्रण में शहद मिलाकर घोट लें। फिर चने के दाने के बराबर गोलियाँ बना लें। रोज़ सोने से पहले 2 गोलियाँ दूध के साथ खाएँ। इस आयुर्वेदिक उपाय से शिशन का ढीलापन ख़त्म हो जाएगा और नामर्दी से छुटकारा मिलेगा।

6. ईसबगोल : 5 ग्राम ईसबगोल भूसी, 5 ग्राम मिसरी रोज़ सुबह खाकर दूध पिएँ इससे शीघ्रपतन की समस्या से निजात मिलेगी।

7. त्रिफला : 1 चम्मच त्रिफला चूरन रात को सोने से पहले 5 मुन्नक्कों के साथ खाएँ और ठंडा पानी पी लें। ये चूरन पेट की बीमारियों, स्वप्न दोष, शीघ्र पतन और नपुंसकता को दूर करता है।

Disappointed couple
Disappointed couple

नपुंसकता के घरेलू उपाय

1. प्याज : वीर्य का शीघ्र पतन हो रहा है तो आधा आधा चम्मच सफेद प्याज़ का रस, शहद और पिसी हुई मिसरी मिलाकर दिन में 2 बार खाएँ। यौन शक्ति बढ़ाने के लिए सफेद प्याज के रस में अदरक का रस, 5 ग्राम शुद्ध शहद और 5 ग्राम देशी घी मिलाकर रोज़ सुबह इसका सेवन करें। एक महीना इसका प्रयोग कर लिया जाए तो चमत्कारिक लाभ होता है।

2. जामुन : जामुन की गुठली को पीसकर चूरन बना लें और नियमित रूप से दूध के साथ सेवन करें। इस उपचार से वीर्य बढ़ेगा।

3. अजवाइन : 100 ग्राम अजवाइन को प्याज के रस में भिगोकर सुखा लें। दुबारा भिगोकर सुखाएँ, तीबारा भिगोकर सुखाएँ और फिर पीसकर रख लें। रोज़ एक चम्मच पिसी मिसरी के साथ आधा चम्मच बनाया हुआ अजवाइन चूरन मिलाकर गुनगुने दूध के साथ खाएँ। सेक्स पॉवर बढ़ाने के लिए इस उपाय को नियमित 1 महीने तक बिना हस्तमैथुन या संभोग किए करें।

4. तुलसी : 10 से 15 ग्राम तुलसी के बीज और 25 से 30 ग्राम सफेद मुसली लेकर चूरन बना लें, अब इसमें 60 ग्राम पिसी मिसरी मिलाकर किसी बर्तन या डिब्बी में भरकर रख दें। सुबह शाम 5-5 ग्राम चूरन गाय के दूध के साथ लेने से शीघ्र पतन की प्रॉब्लम दूर हो जाएगी।

5. लौंग : 1 सेब और 1 नींबू में लौंग भरकर 7 दिन तक बर्तन में रखकर ढक दें। एक सप्ताह के बाद लौंग को निकालकर अलग अलग डिब्बियों में भरकर रख दें। फिर एक दिन सेब में रखी 2 लौंग और दूसरे दिन नींबू में रखी 2 लौंग बकरी के दूध के साथ पी जाएँ। ये इलाज 40 दिन तक करने से सेक्स पॉवर बढ़ती है।

6. लहसुन : 200 ग्राम लहसुन पीसकर 60 ग्राम शहद में मिलाकर किसी शीशी में भर कर ढक्कन लगा दें। अब इस शीशी को गेहूँ या चावल की बोरी में एक महीने के लिए रख दें। एक महीने बाद 10 ग्राम की मात्रा में 40 दिनों तक सेवन करने से यौन शक्ति बढ़ती है और शारीरिक शक्ति प्राप्त होती है।

7. सूखे मेवे : 2 काजू, 2 बादाम और 4 छुहारे 300 ग्राम दूध में उबाल लें और इसमें मिसरी मिलाकर रोज़ रात को सोने से पहले पिएँ। इस उपाय से पौरुष में वृद्धि होती है।

8. हल्दी : वीर्य ज़्यादा पतला हो तो एक चम्मच शहद में आधा चम्मच पिसी हल्दी मिलाकर सुबह खाली पेट सेवन कीजिए। इस प्रयोग को नियमित रूप से करने पर संभोग करने की शक्ति बढ़ती है।

9. इलायची : 2 ग्राम पिसा इलायची दाना, 1 ग्राम पिसी जावित्री, 5 भिगोकर पीसी हुई बादाम और 10 ग्राम पिसी मिसरी को मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को 2 चम्मच मक्खन के साथ सुबह खाएँ। इस उपचार से स्पर्म काउंट बढ़ता है, जिससे नपुंसकता ख़त्म हो जाती है।

10. उड़द दाल : आधा चम्मच उड़द दाल के साथ कोंच की 2 कोमल कलियाँ बारीक़ पीसकर दिन में दो बार सेवन कीजिए। इस होम रेमेडी से रोज़ाना सेक्स करने की शक्ति मिलती है।

योग द्वारा नपुंसकता दूर करें

बचपने में जाने अनजाने की जाने वाली ग़लियों के कारण शरीर रोगी और कमज़ोर हो सकता है। स्वप्न दोष और नपुंसकता ऐसी ही बीमारियाँ हैं। अगर घरेलू उपाय और आयुर्वेदिक उपचार के साथ-साथ योग करें, तो नपुंसकता का इलाज शर्तियाँ हो सकता है। बाबा रामदेव ने इस समस्या से बचने के लिए 3 योगासान बताएँ हैं:

– वज्रोली क्रियाविधि
– अश्विनी मुद्रा
– बाह्य कुंभका प्राणायाम

इन योगासनों के बारे में अगले अंकों में जानकारी प्रकाशित की जाएगी।