हम सभी जानते हैं, कि मासिक धर्म पर खान पान, त्वचा के प्रकार और सेक्स रुचि का ख़ास असर पड़ता है, लेकिन आपकी गाने के स्वर का भी इसे प्रभावित करता है। आपके मासिक पीरियड को ट्रैक करने के लिए क्लू ऐप _ Clue App से पता चलता है, अन्य कौन सी बातें इस पर असर डालती हैं। वैज्ञानिक एन्ना ड्रूएट _ Anna Druet महिलाओं पर पीरियड साइकल के प्रभाव बारे में बताती हैं –

पीरियड साइकल का असर
Period cycle affects women’s health and behaviour weirdly

पीरियड साइकल द्वारा शारीरिक बदलाव

1. आपका स्वर

एक मेटा-एनालिसिस अध्ययन से प्राप्त जानकारी के अनुसार पीरियड साइकल से जुड़े हार्मोनल चेंज आपकी आवाज़ / स्वर पर असर डालते हैं।

2. चोट की संभावना

पीरियड साइकल शुरु होने के बाद आपको फ़िज़िकल एक्टिविटी के प्रति सचेत रहना चाहिए। एस्ट्रोजन कम होने के कारण लिगामेंट कस जाते हैं, जिससे मांसपेशियाँ चोट लगने का ख़तरा बढ़ जाता है।

3. पुरुषों में आकर्षण

डिंबोत्सर्जन के कारण सेक्स कामना बढ़ती है। एक अध्ययन में इस समय महिलाएँ क्रिएटिव पुरुषों को सामान्य पुरुषों से अधिक पसंद करती हैं।

4. सामंजस्य

ल्यूटियल फ़ेज़ में महिलाओं में सामंजस्य बढ़ जाता है। इसमें प्रोजेस्टेरोन लेवल बढ़ जाता है। डिंबोत्सर्जन से दो सप्ताह पहले और पीरियड साइकल की शुरुआत होने का समय ल्यूटियल फ़ेज़ कहा जाता है।

5. ख़रीदरी की आदत

पीरियड के समय महिलाओं को ख़रीददारी करना बेहद अच्छा लगता है। एक अनुवांशिक विविधता के कारण जाग्रत इच्छाएँ ख़रीददारी के लिए प्रेरित करती हैं।

6. चुम्बन

फ़ॉलिक्यूलर फ़ेज़ के समय महिलाएँ चुम्बन को अधिक महत्व देती हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि इस समय वो सबसे ज़्यादा फ़र्टाइल होती है। पीरियड शुरु होने और डिंबोत्सर्जन के बीच दो हफ़्तों का समय फ़ॉलिक्यूलर फ़ेज़ कहा जाता है।

7. घृणा

ख़राब सेक्शुअल निर्णयों से बचने के लिए घृणा सहायक बन जाती है, क्योंकि इस वक़्त प्रेग्नेंट होने की संभावना रहती है।

8. दर्द सहने की क्षमता

एस्ट्रोजन लेवल कम हो जाने से पीरियड के समय दर्द सहने की क्षमता घट जाती है।

9. सहानुभूति

प्रोजेस्टेरोन स्तर कम होने के पीरियड पहले हफ़्ते में दूसरों के इमोशन समझने में मुश्किल होती है, इसलिए आप मिड-फ़ॉलिक्यूलर फ़ेज़ के दौरान मिड-ल्यूटियल फ़ेज़ की अपेक्षा ज़्यादा आत्मविश्वास महसूस करती हैं।

10. ख़राब आदतें छोड़ने की क्षमता

अगर आप सिगरेट या शराब छोड़ना चाहती हैं, तो इसकी शुरुआत ल्यूटियल फ़ेस में करनी चाहिए। फ़ॉलिक्यूलर फ़ेज़ में मस्तिष्क कमज़ोर हो जाता है, इसलिए जब उनको सिगरेट या शराब पीते हुए व्यक्ति की फ़ोटो दिखाते हैं तो वे उसे ज़्यादा देर तक देखते हैं।

यह सब सुनकर आप चकित हो जाएंगे लेकिन हार्मोन हमारे बर्ताव पर चौतरफ़ा असर डालते हैं।

Keywords – Periods, Period Questions, Period Cycle, Menstrual Cycle, Menstruation, Women’s Health, Mahwari, Masik Dharm, मासिक धर्म , माहवारी