जब कोई खाने पीने की ग़लत आदत डाल लेता है तो उसे कब्ज की शिक़ायत होने की संभावना रहती है। खाने पीने का निश्चित समय बनाना चाहिए बजाय कभी भी कुछ भी खा लें। खाना खाने के बाद टहलने की बजाय बैठना और रात को खाना खाते ही बिस्तर पकड़ लेना कब्ज का कारण बन जाता है। कब्ज़ अपने साथ अनेक बीमारियां लेकर आती है। इसकी वजह से पाचन तंत्र कमज़ोर होता है। कब्ज़ के कारण भूख में कमी, गैस, एसिडिटी और बवासीर जैसे कई रोग भी हो सकते हैं। कब्ज़ होने पर मरीज़ के पेट में दर्द होता है और पेट फूलने की शिक़ायत हो जाती है। कब्ज़ किसी भी उम्र में हो सकती है। यह समस्या अक्सर महिलाओं और वृद्धों में देखने को मिलती है। अगर आपको पुरानी कब्ज की शिक़ायत है तो आप यहाँ बताये गये घरेलू नुस्खे करके इससे छुटकारा पा सकते हैं।

पुरानी कब्ज का इलाज

पुरानी कब्ज का रामबाण इलाज

इस आलेख में हम आपको कब्ज़ दूर करने के देशी उपाय बता रहे हैं। ये उपाय न केवल कब्ज़ से निजात दिलाते हैं बल्कि पेट साफ़ करके अनेक पेट संबंधित समस्याओं को दूर भगाते हैं। आइए पुरानी कब्ज का प्राकृतिक और घरेलू उपचार जानते हैं:

1. कम पानी पीने से कब्ज़ की समस्या हो सकती है। इस समस्या में मल आंतों में सूख जाता है, और मल त्याग करने के लिए ज़ोर लगाना पड़ता है। कब्ज़ के रोगियों को चाहिए कि वो अधिक से अधिक पानी पिएं। 4 लीटर पानी एक दिन में पीने की आदत डालें। खाना खाते समय पानी न पिएं और इसकी बजाय आप खाना खाने से आधा घंटा पहले पानी पी सकते हैं।

2. कब्ज की शिक़ायत हो तो आपको पपीते और अमरुद का सेवन ज़रूर करना चाहिए।

3. तांबे की बर्तन में पानी भरकर उसमें 1 चम्मच त्रिफला चूर्ण डालकर रातभर रखें। सुबह बिना कुछ खाए पिए इस पानी को छानकर पीना चाहिए। इस प्रयोग को नियमित करने से पुरानी से पुरानी कब्ज का इलाज भी हो जाता है।

4. बादाम का तेल भी कब्ज़ की समस्या में लाभ पहुंचाता है। इससे आंतों की कार्य क्षमता बढ़ती है। रात को सोने से पहले गुनगुने दूध में 1 चम्मच बादाम का तेल डालकर पीना चाहिए। 15 दिन लगातार इस उपाय को करने से पुरानी कब्ज़ भी ठीक हो जाती है।

5. एक कप हल्के गरम पानी में 1 नींबू निचोड़कर पीने से आंतों में जमा हुआ मल बाहर निकालने में मदद करता है।

Constipation Home Remedies in Hindi…

6. रात को गरम दूध पीकर सोना चाहिए। अगर मल आंतों में चिपक गया है तो दूध में अरंडी का तेल मिलाकर पीना चाहिए।

7. कब्ज़ ज़्यादा होने पर अगर बुखार में दस्त लगे तो 10 ग्राम अरंडी का तेल 250 ग्राम दूध में मिलाकर पीना चाहिए।

8. रेशेदार भोजन करना चाहिए। हरे पत्तेदार सब्ज़ियों, फलों और सलाद में फाइबर अधिक होता है। कब्ज़ से छुटकारा पाने के लिए पालक का जूस लाभदायक है।

9. एक दो नग बड़ी हरड़ मुरब्बा 250 ग्राम दूध के साथ 3-4 दिन पीने से कब्ज़ ठीक हो जाता है।

10. बीज निकले हुए 12 मुन्नके दूध में उबालकर खाएं और दूध पी जाएं। सुबह होने तक आपकी कब्ज़ खुल जाएगी।

11. 8-10 दिन तक सुबह ख़ाली पेट संतरे का जूस पीने से पुरानी कब्ज भी ख़त्म हो जाएगी। संतरे के जूस में कुछ भी न मिलाएं।

12. पीली क़ाबुली हरड़ पानी में भिगोकर रात भर छोड़ दें। सुबह इसे मसलकर इसमें नमक मिलाकर पीने से पुरानी कब्ज़ की समस्या भी ठीक हो जाती है।

13. 10 ग्राम ईसबगोल की भूसी 125 ग्राम दही में घोलकर सुबह शाम में खाने से कब्ज़ ख़त्म हो जाता है।

14. 200 ग्राम दूध में 6 ग्राम त्रिफला चूर्ण डालकर पीने से कब्ज़ की समस्या नहीं रहती है।

पेट की गैस का घरेलू उपाय

1. अजवाइन और काला नमक पेट गैस भगाने का आसान उपाय है। जब पेट में गैस हो जाए तो खाने से पहले 125 ग्राम मट्ठे में 2 ग्राम अजवाइन और चुटकी भर काला नमक मिलाकर पीने से गैस बनना बंद हो जाती है।

2. कच्चे लहसुन की एक कली छीलकर 4 मुन्नको के साथ खाना खाने के बाद चबाकर खाने से पेट दर्द और गैस नहीं रहती है।

3. अलसी के पत्तों की सब्ज़ी भी गैस से छुटकारा दिलाती है।

4. 2 ग्राम अजवाइन और चुटकी भर सादा नमक मिलाकर चबाने से पेट दर्द और गैस निकल जाती है।

5. पानी के साथ 5 माशा हिंगाष्टक चूर्ण खाने से गैस संबंधित समस्या दूर हो जाती है।