सफेद और सुंदर दांत स्वस्थ सेहत और सुंदरता की निशानी है। पायरिया ‌_ Pyorrhea दांतों का एक रोग है जिसमें मसूढ़ों में संक्रमण होने के कारण ख़ून और मवाद निकलता है; साथ ही मुंह से बदबू आने लगती है। बहुत से लोग रोज़ ब्रश तो करते हैं लेकिन जीभ न साफ़ करने के कारण बैक्टीरिया पनपने से पायरिया रोग हो जाता है। पायरिया का इलाज सही समय पर न करें तो धीरे धीरे सभी दांत गिर जाते हैं। आम धारणा है कि दांतों में पायरिया रोग लगने के बाद उसका इलाज संभव नहीं है जो कि बिल्कुल ही ग़लत धारणा है। आइए पायरिया का घरेलू उपचार जानते हैं।

पायरिया होने की वजह

दांतों के बीच खाली जगह पर खाना फंसने के कारण कैविटी हो जाती है, दांत सड़ जाते हैं, और धीरे धीरे मसूढ़ों तक इंफ़ेक्शन फैल जाता है।

पायरिया होने का मुख्य कारण दांतों की सही देखभाल न करना, हेल्दी खाना न खाना और ठीक से पेट साफ़ न होना है।

पायरिया रोग
Pyorrhea and bleeding gums

पायरिया के लक्षण

– मुंह से बदबू आना
– मसूढ़ों से ख़ून और मवाद निकलना
– दांत हिलने लगना
– मसूढ़ों पर छाले और जलन होना

पायरिया का घरेलू इलाज

– रोज़ ब्रश करने के बाद सरसों के तेल में नमक मिलाकर उंगली से मसूढ़ों की मालिश करे, इससे ख़ून और मवाद निकलना बंद हो जाएगा।

– सरसों के तेल में सेंधा नमक मिलाकर दांत साफ़ करने से दांत मज़बूत हो जाते हैं और उनका हिलना भी बंद हो जाता है।

– अमरूद में विटामिन सी अधिक होता है। पायरिया का उपचार करने के लिए अमरूद खाना चाहिए। कच्चे अमरूद पर थोड़ा नमक लगाकर खाएँ।

– कोयले का चूरा, नीम की पत्तियों की राख और थोड़ा कपूर, तीनों को मिलाकर रात को सोने से पहले मसूढ़ों पर लगाने से ब्लड रिसना और पस बनना बंद हो जाता है।

– रोज़ सुबह शाम नीम, बबूल और मिसवाक की डंठल से दांत साफ़ करने से भी पायरिया नहीं होता है।

– ज़रा सा नमक, चुटकी भर पिसी हल्दी और कुछ बूंद सरसों का तेल मिलाकर दांत मसूढ़ों की मालिश करने बाद 20 मिनट तक कुल्ला न करें और मुंह में बनने वाली लार को बाहर थूक दें।

आयुर्वेद में पायरिया का उपचार

– नींबू के रस में शहद मिलाकर मसूढ़ों पर लगाने से पस बनना बंद हो जाता है।

– आम की गुलठी के अंदर वाले भाग को सुखाकर उसका पाउडर बना लें, इससे मंजन करने से पायरिया ख़त्म हो जाता है।

– गेहूँ के जवारे का रस पायरिया ठीक करने की बढ़िया आयुर्वेदिक दवा है। इससे कुल्ला करके फिर इसे पी जाएँ। इससे मुंह के बैक्टीरिया नष्ट हो जाते हैं और मसूढ़े स्वस्थ होते हैं।

– पायरिया ठीक करने के लिए गुनगुने पानी में 3 बूंद लौंग का तेल मिलाकर नियमित रूप से कुल्ला करें।

दांत का दर्द
Toothache problem

पायरिया का रामबाण इलाज

दांत में दर्द हो, कीड़ा लगा हो या पायरिया हो; प्याज का प्रयोग चमत्कारिक तरीके से काम करता है। प्याज के एक टुकड़े को तवे पर गरम करके दांतों के नीचे दबाने से मुंह बंद कर लें। थोड़ी देर में मुंह में लार जमा हो जाएगी। इस लार को दांतों के बीच से इधर उधर करें और बाहर थूक दें। इस नुस्खे को रोज़ 3 से 4 बार एक हफ़्ते तक लगातार करने से पायरिया की समस्या से छुटकारा मिलेगा। इससे मसूढ़े मज़बूत होंगे और दांतों के कीड़े भी मर जाएंगे। यह बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण जी द्वारा बताया गया है।

प्याज के रस से दांत मांजने से दांतों की अनेक बीमारियाँ ठीक हो जाती हैं। इस दवा से कैविटी की प्रॉब्लम से भी बचा जा सकता है।

मसूढ़ों की सूजन दूर करने के टिप्स

– अजवाइन भूनकर पीस लें और इसमें 2 बूंद राई का तेल मिलाकर मसूढ़ों पर हल्की हल्की मालिश करने से दांत संबंधित अनेक रोग ठीक हो जाते हैं।

– अदरक को नमक के साथ मिलाकर पीस लें और धीरे धीरे मसूढ़ों पर रगड़ने से सूजन कम होने लगेगी।

– पानी में नींबू निचोड़कर गरारे करने से मुंह की बदबू और मसूढ़ों की सूजन ठीक होती है।

– फिटकरी का चूरन प्रयोग करने से भी मसूढ़ों की बीमारी दूर होती है।

– अरंडी के तेल में थोड़ा कपूर मिलाकर दिन में दो बार मसूढ़ों की मालिश कीजिए।

पायरिया से बचाव के उपाय

– तम्बाकू वाले उत्पाद खाने से परहेज़ करें
– स्मोकिंग छोड़ दें
– विटामिन सी वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करें
– खाने पीने के बाद अच्छे से कुल्ला करें
– दिन में दो बार दांत साफ़ करें

घरेलू और आयुर्वेदिक उपाय तब अधिक कारगर होते हैं, जब हमें परेशानी हो और डॉक्टर मौजूद न हो। साथ ही प्राकृतिक इलाज सस्ता और दमदार भी होता है। इसके साइड इफ़ेक्ट भी नहीं होते हैं।

Keywords – Pyorrhea, Daant Ka Dard, Daant Ka Hilna, Masoodon Se Khoon Aana, Pyaria Rog