दाँतों की कैविटी दिल को भी नुकसान पहुँचा सकती है, एक मेडिकल रिसर्च से यह बात सामने आई है। अक्सर लोग ओरल हेल्थ पर ध्यान नहीं देते। रात के खाने के बाद ब्रश करना ज़रूरी होता है। दाँत और उसके आसपास के हिस्सों में अगर इन्फ़ेक्शन हो, तो ये सेहत पर बुरा असर डाल सकते हैं। इनकी वजह से ब्लड प्रेशर व शुगर कंट्रोल करना मुश्किल होता है। कई बार तो इसकी वजह से हार्ट ब्लॉकेज तक की समस्या आ सकती है। इसलिए दाँतों की सेहत पर ध्यान देना बेहद ज़रूरी है। तो आइए जानते हैं कि क्या-क्या सावधानी बरतनी चाहिए।

दाँतों की कैविटी

दाँतों की कैविटी और नुकसान

1. मसूड़ों से ख़ून

मसूड़ों से एक बार भी ख़ून निकले तो तुरंत डॉक्टर को दिखायें, क्योंकि ये पायरिया का लक्षण हो सकता है। इसके लक्षण कई बार नज़र नहीं आते और समस्या लगातार बढ़ती रहती है। बाद में दाँतों की कैविटी के कारण होने वाला पायरिया काफ़ी नुकसान करता है।

2. दाँतों में सड़न

एक्सपर्ट्स ने बताया कि रात के खाने के बाद ब्रश करना ज़रूरी होता है, ताकि खाना रात में मुँह में सड़कर इंफ़ेक्शन न पैदा करे। इसी तरह सुबह उठकर ब्रश करना इसलिए ज़रूरी है, क्योंकि सोते समय मुँह में लार कम बनती है। लार नैचरल क्लीनर है। इसकी कमी से रात में मुँह में बैक्टीरिया पैदा हो जाते हैं, जिनकी सफ़ाई सुबह ज़रूरी है। जीभ के अंदर की ओर, गम्स के पास ब्रश को टेढ़ा करके स्ट्रोक देते हुए दो बार ब्रश करना चाहिए।

3. मिड डे स्नैक्स से ख़तरा

खाने में कई वेराइटी होती है, जो दाँतों को साफ़ कर देती है, लेकिन दो बार खाने के बीच में खाया जाने वाला स्नैक्स, चिप्स, बिस्किट, मीठा, कोल्ड ड्रिंक दाँतों की कैविटी बढ़ाता है। इन्हें या तो अवॉयड करें या फिर खाने के बाद पानी से अच्छी तरह से कुल्ला करें।

ज़रूरी बातें

1. सिगरेट, शराब पीने के बाद पानी से कुल्ला या ब्रश ज़रूर करें।
2. दो से तीन महीने में अपना ब्रश बदलते रहें। लगातार एक ही ब्रश दाँतों पर असर नहीं करता।
3. टंग क्लीनर से रोज़ाना सुबह जीभ साफ़ करें। इससे जीभ पर जमे बैक्टीरिया खत्म होते हैं और साँसों की बदबू भी दूर होती है।
4. क्रिस्पी फूड भी काफ़ी हद तक दाँतों की समस्या दूर करते हैं। सेब, गाजर, पॉपकॉर्न जैसी चीजों का इस्तेमाल फायदेमंद रहता है।
5. दाँतो से जुड़ी किसी भी तरह की समस्या को दूर करने या साँसों की बदबू दूर करने के लिए सेब के सिरके का यूज करें। ये मुँह के बैक्टीरिया को ख़त्म करता है।
6. चमकते सफेद दाँत पाने के लिए हफ्ते में एक बार बेकिंग सोडा से ब्रश ज़रूर करें। इससे पीलापन भी दूर होता है साथ ही साँसों की बदबू भी।
7. दाँतो की कैविटी दूर करने और मसूड़ों के सूजन, बदबू की समस्या से राहत दिलाने में माउथ वॉश का इस्तेमाल बहुत ही कारगर होता है।